Apun Pahada - Pahad se
Poetry

इस पहाड़ ने क्या-क्या देखा है… Beautiful poem by Kartik Bhatt

इस पहाड़ ने क्या-क्या देखा है..
नदियों को निकलते देखा है…
पानी को फिसलते देखा है..
ज़रूरतों का आभाव भी देखा है…
पलायन का घाव भी देखा है…
घरों को खंडर होते देखा है…
खेतों को बंज़र होते देखा है…
अपनी मारती भाषाएँ देखी है…
अपनी टूटती आशाएँ देखी है..
अपनी नदियों का खनन भी देखा है..
अपने सपनो का हनन भी देखा है…
अपनो को भागते देखा है..
ख़्वाबों को जागते देखा है…

इस पहाड़ ने सब कुछ देखा है..
पर आँखे इसकी उम्मीद न खोती है..
थक चुकी है आँखे वो
पर एक पल के लिए न सोती है..
वो आँखें बस इस ही उम्मीद में जाग रही है..
की कभी तो वापस मुड़ेगी वो जवानी जो आज भाग रही है…

Related posts

घरौंदा, एक चिड़िया थी… a Poetry by Er Himani Arya

Pahadi Log

अतीत के पथ पर – हिमाँशु पाठक जी की कलम से

Himanshu Pathak

फिर जवानी नीचे भागती है, और बुढ़ापा ऊपर बैठा बस राह तकता है | poem by Kartik Bhatt

Pahadi Log