Baakhlee Hotel
Tourism Uttarakhand

संयुक्त परिवार की सुखद सार्थकता पर आधारित एक पहल – बाखली

ग्रामीण परिवेश मे बाखली एक उपक्रम मात्र था जिसे परिभाषित करने की आवश्यकता के समय की माग है|

एक बहुत बड़े पट आगन के पीछे खड़े भवन की संरचना देख कर प्रतीत होता है कि यह भवन इस ग्राम के किसी सपन्न परिवार कि धरोहर मात्र है परन्तु इसे भीतर से महसूस कर एक सुखद अनुभूति होती है| यह घर घर न होकर विभिन्न परिवारों की संयुक्त धरोहर है| विभिन्न कुटुम्बों द्वारा सामूहिक रूप से इसे सजाने का काम करना ही एक सुखद अनुभव है|

पारिवार के विभिन्न शुभ अवसरों को सफलता पूर्वक सुखद अनुभवों के साथ मनाने के लिए शहर मे स्थित एक मात्र स्थल  बाखली जो की वड्डा रोड तिलदुकरी मे स्थित है से बेहतर स्थल यहाँ पर शायद ही कोई और हो|

चुकीं सर्वप्रथम इसके नाम से हि इसमे किये जाने वाले किर्याकलापो की सफलता की विश्वसनीयता इसका नाम हि है यथा नाम तथा ग्रुण जैसा की उपर वर्जित बाखली की परिभाषा द्वारा इसे परिभाषित किया जा चूका है|

हमारा सांकृतिक परिवेश यहाँ की बिभिन्न दिघाओ से परिभाषित है|  चुकी किसी भी समाज की सरचना एवं विकास उसकी उच्च संस्कृतिक पहचान से होती है इस सम्पूर्ण बाखली को देखकर हि परिलक्षित होता है|

हमारे पूर्वजों द्वारा आदर्स मूल्यों पर स्थापित हमारी संस्कृतिक के वाहक बन कर हमें गर्व की अनुभूति होती है|

इसी सुखद अनुभूति का संचार यहाँ पर किये गए पारिवारिक समारोह मे मेरे अन्य परिवार एवं मित्रो ने महसूस किया| शहर के मध्य स्थित बाखली होटल एवं बारात घर वड्डा रोड तिलदुकरी मे स्थित है बाखली परिसर सड़क से सटा हुआ क्षेत्र है सड़क खूब चौड़ी एवं खुबसूरत है यहाँ की रोड साइड हरियाली मनभावन है परिसर के भीतर प्रवेश करते हि सुन्दर बागवानी के दर्शन होते है हमारी संस्कृतिक धरोहर इस का प्रवेश द्वार एवं झरोखे बहुत लुभावने है भूतल मे गाडियों का पार्किग स्थल है मैना एवं गोरया आदि पंछीयो के लिए भी घोंसले इस होटल मे स्थापित किये है जो की शहर की आधुनिकता के मध्य शानदार पहल है खेती बाडी के विभिन्न ओजार इसकी दीवारों पर प्रदर्शित है मौन पालन भी यहाँ सांकेतिक रुप से किया जा रहा है|

स्वागत स्थल खुबसूरत एवं विशाल है प्रथम तल हेतु निर्मित सीडिया बहुत चौड़ी एवं खुबसूरत गमले द्वारा आछादित है|

दिवार एवं निर्मित पर्कोटो झरोको मे हमारी प्राचीन एवं संस्कृतिक धरोहर सजा कर रखी है जो की उच्कोटी का प्रयास है स्थानीय उत्पादो को प्रोत्शाह के लिए रिंगाल उद्धोग एवं कला के सरक्षण का कार्य भी होटल व्यवसाई  द्वारा किया जाना परिलक्षित है विभिन्न आकर प्रकार से निर्मित रिंगाल उत्पाद, एपण कला की चौकिया देखने को मिल जाती है|

कुमाऊ एवं नेपाल क्षेत्र मे मनाया जाने वाला त्यौहार मेला-हिलजात्रा से संदर्भित मुखौटे परिसर प्रदर्शित है|

कला कृति [VISUAL ART] से संदर्भित  विभिन्न नामचीन कलाकारों द्वारा निर्मित जल एवं पेलीय रगों से निर्मित विभिन्न कलाकृतिया एवं भोजन साला एवं आवासीय परिसर प्रदर्शित है जों की इस भवन की खुबुसुरति एवं हमारी यहाँ पर कार्यक्रम मे समिलित होने की सार्थकता प्रदान करती है|

भोजन शाला विशाल एवं खुबसूरत है न्यूनतम 50 व्यक्तियों का एक साथ कुर्सी मै बैठ कर खाने की व्यवस्था उपलब्ध है साथ ही कम से कम 200-300 लोग खड़े होकर भी भोजन प्राप्त कर लेते है|

यहाँ का सुस्वादु  भोजन सुखद एवं घरेलु खाने की अनुभूति देता है यह मेरा व्यक्तिगत अनुभव है  साथ ही अन्य साथियों की प्रकिर्या भी मेरे अनुरूप है|

स्वछता भी भवन की खूबसूरती के अनुरूप है|

तीसरी मंजिल मे रात्रि विश्राम हेतु कमरे निर्मित है कमरे मे विभिन्न नामचीन कलाकारों की शानदार कलाकृति प्रदर्शित है|

मुझे बाखली की रसोई घर मे जाने का सोभाग्य मिला रसोई घर मे सुव्यवस्थित एवं खुला खुला एवं स्वचछ प्रतीत हुआ|

बाखली परिसर मे विभिन्न ओसधि एवं बड़े छोटे शानदार पेड़ है जिससे शानदार हवा चलती रहती है |

Related posts

उत्तराखंड की लोक कला | ऐपण कला (Aipan Art Uttarakhand)

Gokul Singh Karki

प्रकृति प्रेमी, रंगों के सौदागर | मदन उपाध्याय

Gokul Singh Karki

चाय की केतली का जीवन । पहाड़ से (Seedhe Pahad se)

Gokul Singh Karki