Skip to content

फुरसत के क्षणों में, दोस्तों के साथ जब में | चाय की चुस्की

a Gulp of Tea | Pahadi Log

चाय की चुस्की

फुरसत के क्षणों में,
दोस्तों के साथ जब में ।
सैर पर जाता हूँ,
अतीत की तो बैठ जाता हूँ ।

ठहर जाता हूँ,
उस दुकान पर जहाँ बैठकर,
मैं दोस्तों के साथ,
पिया करता था चाय और,
लिया करता था,
आनन्द चाय की चुस्की का ।।

चाय की चुस्की | हिमाँशु पाठक जी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *